रक्षा क्षेत्र के कर्मचारियों ने केंद्र सरकार के खिलाफ खोला मोर्चा

रक्षा क्षेत्र के कर्मचारियों ने केंद्र सरकार के खिलाफ खोला मोर्चा
साभार: वर्कर्स यूनिटी

नई दिल्ली. आर्मी बेस वर्कशॉप और आर्डनेंस फैक्ट्रियों के तकरीबन चार लाख कर्मचारी 23 जनवरी से तीन दिन की हड़ताल पर हैं। कर्मचारी 275 हथियारों के निर्माण को निजी कंपनियों के हवाले किए जाने का विरोध कर रहे हैं।

हड़ताल पर गए इन कर्मचारियों का कहना है, कि मोदी सरकार विदेशी औऱ निजी कंपनियों पर ज्यादा ध्यान दे रही है। इनकी मांगे हैं कि आर्डनेंस फैक्ट्रियों को पर्याप्त काम उपलब्ध कराने, एमईएस, डीआरडीओ, डीजीक्यूए, नेवी में आउटसोर्सिंग बंद करने के साथ खाली पदों पर भर्ती कराई जाए। 

श्रमिक नेताओं का कहना है कि मोदी सरकार रक्षा जैसे संवेदनशील क्षेत्र को बर्बाद करने पर तुली है। विदेश से रक्षा उपकरण मंगाने पर एक के बाद एक सौदे किए जा रहे हैं, जबकि देसी उत्पादन क्षेत्र को काम ही नहीं दिया जा रहा।